Bina Guru Ki Kripa Paye sargam notes in Hindi Padavali Bhajan

Satguru charan tahal nit kariye Sargam notes

Bina Guru Ki Kripa Paye sargam notes is available on Sangeet Book . All types of hindi songs sargam notes are available in accurate form.


Bina Guru Ki Kripa Paye sargam notes  in Hindi

Instructions

  • “.” is used for mandra saptak swars eg-(.प , .ध )
  • “*” is used for Taar saptak swar
  • “(k)” is used for komal swars.eg – ( रे(k) , (k) , (k) , नि(k) )
  • म(t) here “(t)” is used for showing teevra swar म(t) .
  • “-” is used for stretching the swars according to the song.
  • Swars written “रेग” in this manner means they are playing fast or two swars on one beat.
  • (रे)सा here रे” is kan swar or sparsh swar and “सा” is mool swar.
  • [ नि – प ] here this braket [ ] is used for showing Meend from “नि” swar to प” .
  • { निसां रेंसां नि } here this braket {} is used for showing Khatka in which swars are playing fast .

Bina Guru Ki Kripa Paye sargam notes  in Hindi on keyboard, Piano ,Flute,Violin , Guitar.


Original scale – A#

Vikrit swar –  नि(k)

Bina Guru Ki Kripa Paye harmonium notes

Bina Guru Ki Kripa Paye sargam notes

Bhajan – Bina  guru ki  kripa  paye 

Sthai –

Bina  / guru ki  / kripa  / paye ,  / Nahi

ग प – / सां नि(k) ध – / नि(k) – ध प / ध प ग प / पग रेसा .नि(k)रे सा   jeevan  / udhara  / hai

 सा – ग – / प पसां नि(k)(ध) – ध प  / ध(प) – प ग – 

Filler –

ध  – म प / प प प / प प प प

प नि(k) सां मं गं रें , रें रें रें मं गं रें

प नि(k) सां , गं रें सां , सां सां सां सां गं रें सां

Flute –

सां नि(k) सां नि(k) ध – / नि(k) ध नि(k) ध प – / ध प ध प ग – प(म(t)) – /  ध पध नि(k)सां    

सां नि(k) सां नि(k) ध – / नि(k) ध नि(k) ध प – / ध प ध प ग – /  प ध नि(k) सां   

Stanza – 1

Fansi  / shruti  / aayi  / yam  / fansi

सां नि(k) ध – / ध ध / ध नि(k) ध प / प ग नि(k) – / ध प –    

Aayan  , / Sudhi  / Apni  / Nashi

सां , सांरें सांरें / (सां)नि(k) नि(k)  / सां सां गं – सां सांनि(k) / सां(नि(k)) –  सां प –

Aayan  , / Sudhi  / Apni  / Nashi

ग ग ग / प ध  / ध सां – नि(k) ध प म  / ध – प प

Bhai bhav sog ki vasi kathin jan te udhara hai  ….same as Bina guru ki  kripa  paye

Lyrics in Hindi

बिना गुरु की कृपा पाए, नहीं जीवन उधारा है ||टेक||

फँसी स्त्रुति आई यम फाँसी, अयन संधि अपनी नाशी,

भई भव सोग की वासी, कठिन जहँ ते उधारा है ॥१॥

गुरु निज भेद बतालावै, सूरत को राह दर्शाये,

जीव-हित आपहि आवै, सूरत को आइ तारा है ॥२॥

गुरु हितु हैं गुरु पितु हैं, गुरु ही जीव के मितु हैं,

गुरु सम कोई नहीं दूजा, जो जीवों को उधारा है ॥३॥

गुरु की नित्य कर्म पूजा, जगत इन सम नहीं दूजा,

मेँहीँ को आना नहीं सूझा, फकत गुरु ही अधूरा है ।।४।।

बिना गुरु की कृपा पाए, नहीं जीवन उधारा है ||टेक||

फँसी स्त्रुति आई यम फाँसी, अयन संधि अपनी नाशी,

भई भव सोग की वासी, कठिन जहँ ते उधारा है ॥१॥

गुरु निज भेद बतालावै, सूरत को राह दर्शाये,

जीव-हित आपहि आवै, सूरत को आइ तारा है ॥२॥

गुरु हितु हैं गुरु पितु हैं, गुरु ही जीव के मितु हैं,

गुरु सम कोई नहीं दूजा, जो जीवों को उधारा है ॥३॥

गुरु की नित्य कर्म पूजा, जगत इन सम नहीं दूजा,

मेँहीँ को आना नहीं सूझा, फकत गुरु ही अधूरा है ।।४।।

Bina Guru Ki Kripa Paye sargam notes in Hindi is available on sangeetbook.com

Click here for Bina Guru Ki Kripa Paye sargam notes in English

Bina Guru Ki Kripa Paye sargam notes song details

5/5 - (1 vote)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here